स्वागत/ नमस्ते

SC_CAT.jpg

पेनकेनेंट इसाफ़ कैफ़े एक बहुत वार्म(जोश भरा), फ्रेंडली व बिना किसी चकाचौंध वाला वाकर्स कैफ़े है, जो कि स्नोडॉन की निचली ढलान पर श्लानबेरिस मार्ग में रॉयल विक्टोरिया होटल से करीब 100 मीटर की दूरी पर स्थित है।

यहां पहुंचने पर आपका निश्चित ही गर्मजोशी से स्वागत होगा। इसके साथ ही आपको कई रुचिकर व अपने तरह के(लाइक-माइंडिड) लोगों से मिलने का बेहतरीन मौका भी मिलेगा। हमारे यहां चाय, कॉफी, सेब से बनी मदिरा(मल्ड साइडर), वाइन और हॉट चॉकलेट के साथ स्थानीय बीयर भी मिलती है। हालांकि हमारे यहां कुछ चुनिंदा फूड आइटम्स ही मिलते हैं। लेकिन आपको इस कैफ़े में बाहर से अपने साथ स्नैक्स लाने की पूरी छूट है, जिसका मज़ा आप हमारे यहां मिलने वाली चाय के साथ उठा सकते हैं।

नोट- स्नोडॉन माउंटेन के टॉप पर हमारा कैफ़े और विज़िटर सेंटर नहीं है।

स्नोडॉन के बारे में

स्नोडॉन को वेल्श भाषा में अर विडफ़ा कहते हैं- स्नोडॉन वेल्स में सबसे ऊँचा माउंटेन है, जो कि समुद्र तल से 1085 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यह ब्रिटेन में सबसे व्यस्त माउंटेन के रूप में जाना जाता है। अगर आप कभी पीक सीज़न में पेनकेनेंट इसाफ़ कैफे आए होंगे तो आपको इसकी सच्चाई का पता चल गया होगा।  

यहां जाने के मुख्य रास्ते इस तरह हैं- श्लानबेरिस से क्लॉकवाइज़(घड़ी की सुई की दिशा में)

द श्लानबेरिस पाथ

यह सबसे लंबा रूट(रास्ता) है, लेकिन यह सबसे आसान रूट माना जाता है क्योंकि इसके अधिकांश भाग में उतार-चढ़ाव बहुत कम है।

द पिग ट्रैक

पिग ट्रैक पेन-अह-पास कार पार्क से आरंभ होता है और क्रीब गौख के पूर्वी तरफ बुख मौख (पिग्स पास) तक जाता है।

द माइनर्स ट्रैक

यह भी पेन-अह- पास पर स्थित कार पार्क से शुरू होता है और स्नोडॉन के टॉप पर जाने का सबसे लोकप्रिय रूट है।

द वाटकिन पाथ

यह माउंटेन के टॉप पर जाने का सबसे ज्यादा डिमांडिंग रूट माना जाता है।

दी फ्रीड दी पाथ

कभी-कभी इसे बेड्डगेलर्ट पाथ भी कहा जाता है। यह फ्रीड दी गांव से शुरू होता है।

द स्नोडॉन रेंजर पाथ

स्नोडॉन रेंजर पाथ श्लिनक्वेश्लिन के बगल में यूथ हॉस्टल, स्नोडॉन रेंजर रेलवे स्टेशन के पास ए4085 से शुरू होता है।

ट्रेन से स्नोडॉन

स्नोडॉन माउंटेन रेलवे, 1894 में निर्मित किया गया था। यह स्नोडॉन माउंटेन के टॉप पर जाने का सिर्फ एक माध्यम ही नहीं है, बल्कि यह अपने आप में एक टूरिस्ट आकर्षण की चीज़ है।

चोटी पर

स्नोडॉन माउंटेन के टॉप पर पहली बिल्डिंग वर्ष 1838 में बनाई गयी थी। जबकि एक नया स्टेशन और कैफ़े 19वीं सदी के तीस के दशक के मध्य में निर्मित किया गया, जिसे सर क्लफ़ विलियम्स एलिस द्वारा डिज़ाइन किया गया था, जिन्हें पोर्टमेरियॉन में इटेलियनेट गांव का संस्थापक भी माना जाता है।

इस बिल्डिंग की जगह साल 2006 में स्लेट से आच्छादित हेफोर्डएरारी बिल्डिंग ने ली, जिसे हम आज देखते हैं।

कृपया ध्यान दें कि स्नोडॉन के टॉप पर सुविधाएं साल भर चालू नहीं रहती हैं यानी कुछ समय सुविधाएं बंद भी रहती हैं। और हाफ़वे हाउस पर छोटा सा कैफ़े सीज़न के दौरान और आउट ऑफ सीज़न में वीकेंड के दौरान कभी-कभी खुलता है। लेकिन पेनकेनेंट इसाफ़ टी हाउस साल में 365 दिन खुला रहता है।

कैसे पहुंचे

बस से


श्लानबेरिस से कनाबन, बेंगोर और बेट्स अ कॉयड वाया केप किरिग जाने के लिए अच्छी स्थानीय बस सेवा मौजूद है। इसके साथ ही इस रूट पर स्नोडॉन से गुजरने वाली बेहतरीन शेरपा शटल बस सेवा भी उपलब्ध रहती है। जिसमें मुख्य मार्गों के शुरुआती स्थल पर यात्रियों को ले जाने और उतारने के लिए स्टॉप बने हुए हैं।

ट्रेन से

लंदन, मिडलेंड्स और इंग्लैंड के उत्तर-पश्चिम, नार्थ वेल्स कोस्ट से बेंगोर और एंगलेसी से होलीहेड तक मुख्यलाइन की ट्रेनें जाती हैं, वहां से फेरी के जरिए आइरलैंड जा सकते हैं।

स्नोडॉन माउंटेन रेलवे, जो कि लोगों को स्नोडॉन की चोटी पर ले जाती है, के अलावा एक छोटी रेलवे लाइन भी है, जिसे श्लिन पाहदार्न श्लानबेरिस लेक रेलवे के नाम से जाना जाता है। यह ट्रेन आपको श्लानबेरिस में विक्टोरिया होटल के नजदीक से स्लेट म्यूज़ियम होते हुए श्लिन पाहदार्न ले जाती है।

जबकि वेल्श हाइलैंड रेलवे खेरनारबोन से बेड्डगेलर्ट को जाती है, जो कि स्नोडॉन के पश्चिमी किनारे के कुछ जगहों पर रुकती है, जो फिर पोर्थमेडोग को जाती है, जहां आप फेस्टिनियोग रेल पकड़ सकते हैं। इस तरह आपकी यात्रा ब्लाइनॉ फेस्टिनियोग में खत्म होती है।

अगर आप अच्छी तैयारी के साथ जाएं तो खेरनारबोन से पोर्थमेडोग, ब्लाइनॉ फेस्टिनियोग और श्लानडिडनो जंक्शन की राउंड ट्रिप की यात्रा पूरी कर सकते हैं। इस तरह बस सर्कल को पूरा करते हुए आपको खेरनारबोन पर वापस पहुंचाती है।

मौसम

स्नोडन का मौसम हर महीने, हर दिन, हर घंटे और हर मिनट बदलता रहता है। यदि आप माउंटेन के टॉप पर जाने की योजना बना रहे हैं, तो एक सटीक पूर्वानुमान प्राप्त करना जरूरी है। मौसम की सटीक जानकारी आपको मौसम विभाग के वेब पेज, पेनकेनेंट इसाफ़ कैफ़े के बाहर नोटिस बोर्ड, नेशनल पार्क या माउंटेन मौसम सूचना सर्विस पर मिल जाएगी।

इस बात का विशेष ध्यान रखें कि माउंटेन के टॉप पर तापमान गांव के लेवल से कहीं कम होता है। साथ ही आपको सबसे बुरी स्थिति के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

माउंटेन सेफ्टी

स्नोडॉनियां के पहाड़ घूमने के लिए शानदार जगह माने जाते हैं, लेकिन यहां जाने से पहले आपको अच्छी तरह तैयारी कर लेनी चाहिए।

हमेशा मौसम के पूर्वानुमान पर ध्यान दें, क्योंकि माउंटेन के टॉप पर मौसम बहुत जल्दी बदलता रहता है।

चाहे आप अकेले माउंटेन पर जा रहे हों या एक समूह के साथ, आपको हमेशा कुछ अहम जरूरत की चीजें अपने साथ रखनी चाहिए। यह जरूरी सामान माउंटेन्स के आसपास की दुकानों में आसानी से उपलब्ध रहता है।

कई रूट खुरदरे और खड़ी ढलान पर हैं, ऐसे में अच्छे और मजबूत जूते पहनना आवश्यक है। हल्के जूते तो बिल्कुल नहीं चलेंगे।

जरूरी चीजें- एक नक्शा और कम्पास, वाटरप्रूफ कोट और ओवर ट्राउज़र, गर्म कपड़े, लंच पैक और पानी आदि अपने साथ रखें।

कपड़ों की कई पतली परतें एक मोटी परत से बेहतर होती हैं। वहीं लंबे समय तक घूमने के लिए, आपको अपने साथ कुछ गर्म पेय, सीटी के साथ-साथ  एक टॉर्च भी रखना चाहिए, जो कि अतिरिक्त बैटरी और बल्ब के साथ हो। विशेषकर ठंड के दिनों में एक ऊनी टोपी, दस्ताने की जरूरत होती है। जबकि आमतौर पर सामान्य टोपी, सन क्रीम और धूप के चश्मा अपने साथ ले जाना न भूलें।

कई लोग अकसर असमतल रास्ते पर घूमते हैं, स्नोडॉन में भी कुछ ऐसा ही है। हालांकि आसान रास्ते के लिए भी आपको अपने पास एक छोटी फर्स्ट एड किट जरूर रखनी चाहिए। 

इस बात का ध्यान रखें कि आप जिस रूट पर जा रहे हैं, उससे परिचित हैं। वरना रास्ते भटकने पर आपका समय बर्बाद होगा। अगर ऊपर चढ़ते समय दूसरे रास्ते से गए और नीचे किसी अन्य रूट से उतर रहे हैं तो इस बात का पूरा ख्याल रखें कि आप अपनी कार या होटल तक वापस कैसे पहुंचेंगे। हालांकि माउंटेन के आसपास नियमित तौर पर बसें संचालित होती हैं, लेकिन रात के वक्त ये बसें भी नहीं चलती। 

अपने किसी करीबी मित्र को अपनी इस ट्रिप और योजना के बारे में बता सकते हैं। ताकि जरूरत पड़ने पर वह आपको वापस लौटने में मदद कर सके। 

इतना ही नहीं माउंटेन के कुछ हिस्सों में फ़ोन का सिग्नल भी काम नहीं करता है, ऐसे में जीपीएस भी ठीक से नहीं चलेगा।

और हां इस ट्रिप को यादगार बनाना चाहते हैं तो अपने साथ एक कैमरा ले जाना कतई न भूलें।